Herbalife ने अपनी सीड-टू-माउथ पहल के तहत 9300 से अधिक किसानों को किया और सशक्त

हर्बालाइफ इंडिया ने अपनी सीएसआर पहल के हिस्से के रूप में भारत में किसानों को प्रशिक्षित और सशक्त करने के लिए गैर-लाभकारी संगठन संभव फाउंडेशन के साथ की साझेदारी

अगस्त 2, 2023 - 17:52
अगस्त 2, 2023 - 17:52
 0  48
Herbalife ने अपनी सीड-टू-माउथ पहल के तहत 9300 से अधिक किसानों को किया और सशक्त
हर्बालाइफ इंडिया ने अपनी सीएसआर पहल के हिस्से के रूप में भारत में किसानों को प्रशिक्षित और सशक्त करने के लिए गैर-लाभकारी संगठन संभव फाउंडेशन के साथ की साझेदारी

अजमेर.- ग्लोबल हैल्थ और वेलनेस कंपनी हर्बालाइफ इंडिया ने अपनी सीएसआर पहल के हिस्से के रूप में भारत में किसानों को प्रशिक्षित और सशक्त करने के लिए गैर-लाभकारी संगठन संभव फाउंडेशन के साथ साझेदारी की है। हर्बालाइफ की सीड-टू-माउथ पहल के माध्यम से संगठन ने पूरे भारत में 9,300 से अधिक किसानों की कृषि क्षमताओं को मजबूत किया है। संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) के प्रति हर्बालाइफ की प्रतिबद्धता के अनुरूप इस व्यापक प्रशिक्षण कार्यक्रम ने कर्नाटक, राजस्थान और मध्य प्रदेश के 84 गांवों में 25,000 से अधिक परिवारों के जीवन में बदलाव किया है। 

राजस्थान के अजमेर में, सीड टू माउथ पहल ने 3,000 किसानों पर सीधा प्रभाव डाला है, जिससे 8,463 परिवारों को बहुत फायदा हुआ है। कार्यक्रम ने सावर और केकड़ी तालुकों में थोक डीलरों की पहचान करके किसानों की उपज की थोक बिक्री को सफलतापूर्वक सुविधाजनक बनाया। किसानों को सीधे थोक डीलरों से जोड़कर, कार्यक्रम ने किसानों के लिए बड़ी मात्रा में अपनी उपज बेचने के लिए कुशल और प्रभावी चैनल बनाए। बाजार तक किसानों की आसान पहुंच सुनिश्चित करने के लिए किराए के वाहन उपलब्ध कराए गए, ताकि परिवहन का काम आसानी से हो सके।

साथ ही, कटाई के समय एपीएमसी कीमतों पर नज़र रखना किसानों की उपज के लिए सर्वोत्तम संभव कीमतों की गारंटी देता है। इसके अतिरिक्त, किचन गार्डनिंग अवधारणा की शुरूआत ने 230 महिलाओं को सक्रिय रूप से शामिल और सशक्त बनाया है, जो घरेलू आय में योगदान दे रही हैं। नई शुरू की गई किसान राहत योजना में नामांकन के माध्यम से किसानों के लिए मुफ्त राशन, बिजली, स्वास्थ्य बीमा और गैस सिलेंडर जैसी 10 से अधिक सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का फायदा हासिल करना संभव हुआ।

यह प्रोजेक्ट अजमेर (राजस्थान), जैसे प्रमुख जिलों में लागू किया गया था, जिससे कृषक समुदाय को अत्याधुनिक कृषि शिक्षण संसाधनों से लैस किया गया, परिचालन लागत कम की गई और आय बढ़ाने के लिए उनकी बाजार तक पहुंच बनाई गई। जुलाई 2022 में लॉन्च होने के बाद से, सीड-टू-माउथ पहल ने किसानों को प्रमुख उद्योग के खिलाड़ियों के साथ जोड़कर क्षेत्र तक पहुंच को बढ़ाया है, जिससे उन्हें बड़े पैमाने पर ग्राहकों तक पहुंचने और अपनी बाजार पहुंच का विस्तार करने में मदद मिली है। 

हर्बालाइफ इंडिया के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट और मैनेजिंग डायरेक्टर अजय खन्ना ने कहा, 'हमारा मानना है कि सामुदायिक सशक्तिकरण और उत्थान एक समतापूर्ण समाज बनाने के लिए एक शक्तिशाली उपकरण है। इस पहल का उद्देश्य छोटे पैमाने के किसानों के सामने आने वाली चुनौतियों का समाधान करना है। सहयोग का उद्देश्य किसानों को उनकी खेती के तरीकों को बेहतर बनाने के लिए पर्याप्त प्रशिक्षण और संसाधन उपलब्ध करवाना है।'

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow